What is PPI in हिंदी | What does Pixels per inch Mean | PPI in Smartphone

PPI क्या है पूरी जानकारी | What is PPI in हिंदी

What is PPI - ppi kya hai

दोस्तों हम जब भी किन्हीं दो Smartphones का Screen Compare करते हैं तो हमारे सामने एक Term आते हैं जिसको हम PPI कहते हैं। अब यह PPI क्या है, PPI कम होनी चाहिए या PPI ज्यादा होनी चाहिए यह सब हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे।

 

नमस्कार दोस्तों स्वागत है हमारे इस Hindiadda Blog में। हमारा आज का जो टॉपिक है वह है PPI को लेकर। हम आज इस Article में आपको PPI से जुड़े कुछ Important Informations बताने वाला हूं।

 

PPI का पूरा नाम क्या है – What Is The Full Form Of PPI ?

 

दोस्तों PPI का जो पूरा नाम है वह है Pixels Per Inch। दोस्तों Pixels Per Inch क्या है, इसको जानने से पहले हम सब को यह जानना जरूरी है कि Pixels क्या होता है ?

 

Pixels क्या है – What is Pixel ?

 

What is pixels

 

दोस्तों किसी भी Screen में यानी चाहे आपका Laptop हो चाहे आपका Computer हो या चाहे आपका Smartphone हो या तो आपका TV हो या किसी भी Electronics Devices जिसका स्क्रीन होता है। वह बना होता है छोटे-छोटे अलग-अलग Components से। उस Components को ही हम बोलते हैं Pixels

 

यह सब जो Screen है इसमें बहुत सारे छोटे छोटे लाइंस बना हुआ होता है। वह Line-by-Line बहुत सारे हजारों लाखों करोड़ों में भी Pixels से बना हुआ होता है। Pixels इतना छोटा है फिर भी वह अपने आप में कई सारे रंग दिखाने में सक्षम होता है।

 

दोस्तों एक Pixels के अंदर तीन छोटे-छोटे Pixels होते हैं जिनको हम Sub-Pixels बोलते हैं। वह सब Pixels 3 कलर के होते हैं, Red, Green और Blue Colour के Light बिल्कुल छोटे छोटे Lights जो Amoled Screen होते हैं उनमें जो Blue कलर वाला Pixels होता है वह 2 Sub-Pixels के अंदर शेयर किया हुआ होता है। यह एक अलग Topic है इसके बारे में मैं और एक आर्टिकल में आप लोगों को बताऊंगा।

 

Red green blue pixel

 

आप यह मानिए कि आपके जो Screen है उसके अंदर जो Pixels है उसके अंदर तीन छोटे-छोटे Pixels लगा हुआ होता है। वह Red, Green और Blue अलग-अलग Colours दिखा सकते हैं। हमारा जो Screen होता है वहीं 3 Colours के मदद से अलग-अलग Colours Generate करते हैं।

 

मन लीजिये आपको सिर्फ ब्लू दिखाना है तो आप रेड और ग्रीन को ‘0’ कर दीजिए। और आपका Screen बिल्कुल ब्लू हो जाएगा। और वह इतनी छोटी होती है कि आपको यह नजर ही नहीं आएगी इसी बीच में कोई कलर Off है। आपको यह लगेगा कि पूरा जो Screen है वह Blue हो चुका है।

 

आपको Red दिखाना है तो Green और Blue को ऑफ कर दीजिए। अगर आपको ग्रीन दिखाना है तो Red और Blue को जीरो कर दीजिए। अगर Black दिखाना है तो अब तीनों को ही बंद कर दीजिए, और अगर आपको White दिखाना है तो तीनों को ही On कर दीजिए Colour Mix होकर आपको White दिखेगा।

 

जानिए Podcast क्या होता है, Podcast कैसे काम करता है

Instagram के Followers कैसे बढ़ाये

 

Basically कलर Mixing के System सही आपके स्क्रीन में अलग-अलग कलर्स नजर आते हैं। जिस स्क्रीन में सबसे ज्यादा Pixels लगा हुआ होता है उस स्क्रीन में आपको सब कुछ उतना ही Clear और High Resolution देखने को मिलेगा।

 

दोस्तों अगर आप अपने पुराने जमाने का जो Nokia Phone है वह इस्तेमाल किया होगा तो फिर आप ज्यादा अच्छे से समझ पाएंगे। उसमें जो भी Text मतलब जो Screen है उसमें जो भी दिखाते हैं उसमें आपको चोको चोको Pixels देखने को मिलेगा।

 

Nokia old model

 

मतलब आप उस टाइप के Phone से आसानी से देख पाएंगे की Pixels कैसे आकार में रहता है। लेकिन अगर हम आजकल की Modern मोबाइल फोन की अगर बात करें जिसमें हम अलग-अलग Multimedia यूज कर सकते हैं, Internet Brows कर सकते हैं, Video देखते हैं तो उसके लिए इतने कम Pixels मे काम नहीं चल सकता।

 

अगर इतनी बड़ी Smartphone के Screen में कम विकसित होंगे तो जो Text और Videos होंगे तो कुछ इस तरह नजर आएंगे

Low resolution image

इसीलिए Smartphones में या अगर हम बात करें आजकल की HD TV, 4K टीवी, 8k टीवी यानी जितनी ज्यादा Pixels होंगी आपके Screen में उतने ही ज्यादा क्लियर Picture आपको देखने को मिलेगा।

 

लेकिन कहीं ना कहीं इसका असर आपके फोन के स्क्रीन के ऊपर भी होता है। आप मान लीजिए आपका फोन का Screen Size सिर्फ 4 इंच है। मान लीजिए अगर इस 4 इंच का स्क्रीन साइज में 4K Display लगा दूंगा तो यह कुछ अच्छी बात नहीं होगी। इसमें आपके फोन की Battery में फर्क पड़ेगा, क्योंकि जो 4 इंच का स्क्रीन है वह इतना बड़ा नहीं है कि उसके अंदर इतने ज्यादा Pixels ठूस देंगे कि आपके Picture Quality अच्छे बन जाएंगे।

 

आपको यह बता दो कि जो हमारे Human Eyes है वह जब एक Normal Distance से Smartphone को देखती है तो एक लिमिट के बाद में वह Quality में फरक जज नहीं कर सकती है।

 

जैसे मैं अगर आपको एक Ordinary Smartphone और एक 4K HD Phone दो तो फिर आप उसमें ज्यादा Difference जज नहीं कर पाएंगे आपको दोनों सेम ही लगेंगे।

 

Pixels Density

दोस्तों Pixels Density जो है वह ज्यादा Depend करती है Screen Sizs पर और आप जितना दूर से उस स्क्रीन को देखने वाले हैं।

What is Pixels Per Inch | PPI क्या है

दोस्तों आपने तो Pixels के बारे में जान लिया आप जानते हैं Pixels Per Inch यानी PPI के बारे में।

दोस्तों Pixels Per Inch का मतलब है एक स्क्रीन के हर इंच में कितने Pixels मौजूद है। यानी मान लीजिए आपका फोन 4 इंच का है तो फिर इस 4 इंच के हर 1 इंच में कितने Pixels है।

और इसको ही हम Pixels Per Inch कहते हैं। आम बात है जिस फोन के हर इंच में ज्यादा Pixels रहेंगे उस फोन में आपको Resolution ज्यादा देखने को मिलेगा यानी आपको उस स्क्रीन में कुछ भी देखने में बहुत ज्यादा Clarity आएगा।

PPI को कैसे नाप सकते है ?

अब हम आपको बताएंगे कि इसको hआप कैसे नाप सकते हैं। यानि PPI को कैसे नाप सकते है

दोस्तों मान लीजिए कि आपका जो मोबाइल फोन है उस मोबाइल फोन की Company का यह दावा है कि इस फोन में आपको Full HD Resolution देखने को मिलेगा। Full HD का मतलब होता है 1920×1080।

और Company ने बताया है कि आपका फोन का जो Screen Size है वह है 5 इंच। तो अगर आप जानना चाहते कि इस 5 इंच के हर इंच में कितने Pixels है तो फिर नीचे जो फोटो मैंने दी है उसको ध्यान से देखिए।

PPI calculation

तो दोस्तों मैंने आपको इस आर्टिकल मे अच्छे से समझा ने की कौसिस की है What is PPI, PPI आप कैसे जान सकते है, PPI Calculate कैसे करें ये सब।

Bijoy Biswashttps://www.hindiadda.xyz
My name is Bijay. I am a Part Time Blogger And Also Honours in Political. Creator of HindiAdda.xyz. I Love to Share Values Throughout This Blog.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular