C++ vs Java in Hindi | What Are The Difference Between Java and C++ हिंदी मे जानिए

अगर आप C++ और Java प्रोग्रामिंग लैंग्वेज इसके बीच में अंतर जानना चाहते हैं तो जरूर इसको पढ़िए। इसमें आप अच्छे से जान पाएंगे Java और C++ में क्या क्या अंतर है।

C++ vs Java

C++ vs java

दुनिया में हजारों तरह की Language अलग-अलग तरह से लिखी और बोली जाती है। इनमें से कुछ ही Language किनी देश और प्रदेश में ही सीमित है। जबकि English अंतरराष्ट्रीय रूप से बोले जाने वाली भाषा है।

इसी तरह Computer के भी भाषा होती है जिसे हम Programming Language कहते हैं। Programming Language मनुष्य के द्वारा लिखे और समझे जाती है। इसी तरह Computer की Programming Language के रूप में English भाषा का उपयोग किया जाता है।

Computer का प्रोग्राम जिनके अनुसार Computer काम करता है यह कई तरह की Language से लिखे जाते हैं। जैसे Low Level Language, Assembly Language और High Level Language। Computer सिर्फ मशीन Language को समझता है जिसमें केवल दो बाइनरी डिजिट यानी कि 0 और 1 शामिल है।

Computer के लिए Programming Language का इस्तेमाल करके Coding लिखने के लिए मनुष्य केवल High Level Language का ही इस्तेमाल करता है।

क्योंकि यह बहुत ही आसान होती है और इसमें साधारण English शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है।

और बाद में Compiler का प्रयोग करके प्रोग्राम को मशीन भाषा में बदला जाता है। जिससे Computer हमारे द्वारा दिए गए Instructions को समझ जाता है।

High Level Language के अंदर C, C++, Java, Python, Javascript इत्यादि भाषा मौजूद है। और इन भाषाओं को बहुत शक्तिशाली भाषा माना जाता है।

तो दोस्तों स्वागत है हमारे इस ब्लॉग में। हम इस Blog में आज आपसे बात करने वाले हैं High Level Language की दो Special Language को लेकर। जो की है Java और C++ Language। इसके साथ ही हम आपको बताने वाले हैं कि Java और C++ में क्या अंतर है।

इसीलिए अगर आपको जानना है Java और C++ के बारे में तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ना। मैं यह दावे के साथ कह सकता हूं कि अगर आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ेंगे तो जरूर इन दोनों Language के बारे में बहुत कुछ जान पाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं हमारा आज का Topic C++ क्या होता है?

C++ क्या है

तो दोस्तों हम सबसे पहले जानेंगे कि C++ क्या होता है। C++ एक Objected Oriented Programming Language है। इस Language का विकास 1980 में हुआ था। America के Bell Labs में Bjarne Stroustrup के द्वारा हुआ था।

सबसे पहले इसका नाम C With Classes था। लेकिन इसके बाद 1983 मैं इसका नाम बदल दिया गया और C++ रखा गया।

C++ Language सी Language का एक Standard Version है।

इसीलिए इस Language को C Language के Style में ही Coding किया जा सकता है। साथ ही इस Language में Objected Oriented Concept का प्रयोग करके Programme Codes को Usable बनाया जाता है। जो कि हम C Language में नहीं कर सकते। C++ के आने से पहले C आर सी Simula-67 बहुत ही लोकप्रिय Language थी।

Bjarne Stroustrup ने इन्हीं दो Language को मिलाकर एक ऐसी भाषा बनाना चाहते थे जिसमें OOPS यानी Objected Oriented Programming सिस्टम की साड़ी फीचर्स हो।

Bjarne Stroustrup की इसी चाहत के कारण C Language का विकास C++ में हुआ।

आज के समय में Objected Oriented Programming को Programming में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

और C++ एक ऐसी Language है जिसमें OOPS के सारे नियमों को काफी आसानी से Implement किया जा सकता है। यानी Objected Oriented प्रोग्राम की साड़ी Concepts को C++ के द्वारा आसानी से सीखा जा सकता है।

अगर कोई C++ Language को अच्छी तरह से सीख लेता है तो उसे दुनिया की किसी भी Objected Oriented Language को सीखने में ज्यादा समय नहीं लगता है।

C++ का इस्तेमाल System Softwares बनाने के लिए किया जाता है।

C++ Programming भाषा में लिखे गए Programme को किसी एक Operating System जैसे कि Linux, Unix, Windows इत्यादि पर चलाया जा सकता है।

Programming kaise sikhe?

Wifi ka Full Form?

Paypal kya hai?

C++ कहा प्रयोग होता है?

साथ ही में C++ Language का प्रयोग Oracle Database, My SQL, My SQL Database Server, Apache Web Server, PHP Level Software को Develop करने के लिए किया गया है।

इसी तरह से विभिन्न प्रकार की Mobile Platform Software, Satellite, Satellite Connected Software और Set Top Box इत्यादि Softwares भी C++ Language से ही Develop किए जाते हैं।

सभी तरह की Embedded Software Device Drivers और Network Drivers बनाने के लिए भी इस C++ भाषा का उपयोग किया जाता है।

अभी के समय जो नया Microsoft Office Swift Window OS में इस्तेमाल किया जाता है उसे भी C++ Language से ही Develop किया गया है।

Java क्या होता है?

तो दोस्तों चलिए अब हम जानेंगे कि Java क्या होता है-

Java भी एक Objected Oriented Language है जिसे Sun Microsystems के द्वारा 1995 में विकसित किया गया है।

जिसमें James Gosling सबके हेड थे और इनके साथ Patrick Naughton और Mike Sheridan ने भी Java Develop करने में योगदान दिया।

Java का शुरुआत में नाम था Oak बात में इसे बदल कर Java रखा गया। Java को High Language कहा जाता है क्योंकि इसे मनुष्य द्वारा आसानी से लिखा और पढ़ा जा सकता है।

अगर आप पहले से ही C और C++ Language को सीख चुके हैं तो आपको Java Language सीखने में कोई परेशानी नहीं होगी।

क्योंकि Java Language C आर C++ Language का ही मिलाजुला रूप होता है। Java Language C++ Language के Sintex और Fundamental का उपयोग करता है।

Java Programming Language को बनाने के पीछे का मकसद कुछ और था। यह था कि इस Language को Simple, Portable, Dynamic और Easy बनाया जा सके।

ताकि Java Language सीखने और उपयोग करने में आसान रहे। Java को Multi-Threaded Language भी कहा जाता है जिसका मतलब है कि Java प्रोग्राम एक साथ कई कार्य को पूरा कर सकता है।

यही विशेषता Java Language को Fast और Interactive बनाता है।

Java को Software और Applications Development करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यह Platform Independent Language है, जिसका मतलब है कि इसमें लिखे गए Code को आप किसी भी Operating System में Run कर सकते हैं।

Java Language OOPS का Concepts का पालन करता है। Java सबसे ज्यादा Secure Language है इसीलिए इसका इस्तेमाल Web Development में होता है।

इंटरनेट में Java दूसरे Web based Language के साथ मिलकर काम करता है।

JavaScript और Java Web Server Pages की मदद से Powerful Web Applications बनाया जा सकता है।

साथ ही इसका इस्तेमाल लगभग सभी डिवाइस के लिए Software और Applications Develop करने में होता है।

Android में जितने भी Operating System है जैसे Kitkat, Lollipop, Oreo यह सभी Java Language से ही Develop किए गए हैं।

तो आप Java और C++ क्या है यह जानने के बाद हम जानेंगे कि Java और C++ Language के बीच का अंतर क्या है।

अब तक तो आपको यह समझ में आ ही गया होगा पी C++ और Java Language क्या है।

यह दोनों ही Programming Language है जिसका इस्तेमाल सिस्टम के लिए Softwares बनाने में होता है। और Java Language C++ Language का Syntex भी उपयोग करता है।

मतलब दोनों के ही Coding लिखने का तरीका एक है। लेकिन फिर भी इन दोनों Language इसमें बहुत सारे Differences होते हैं। वह Differences किया है वह हम बताने वाले हैं।

How To Increase Followers On Instagram 2021 – Instagram Par Followers Kaise Badhaye

Java और C++ मे क्या अंतर है ?

1.सबसे पहला Difference है Independent Platform का। जहां C++ Language का बात करें तो यह Language Dependent Language है। क्योंकि इसमें एक Computer में लिखे गए Code को दूसरे Computer में Run नहीं किया जा सकता।

जबकि Java Language एक Independent Language है। क्योंकि इस Language में लिखे गए Code को हम किसी भी Computer में Run कर सकते हैं।

C++ में लिखे गए Code कभी भी दूसरे Computer में एक जैसे Execute नहीं होता है। जैसे Windows में लिखे गए C++ की Code को कभी भी Mac OS में चलाया नहीं जा सकता। लेकिन यह Java के मामले में पूरा विपरीत है।

  1. दूसरा है कि Java का मुख्य रूप से उपयोग Application Programming के लिए किया जाता है। जैसे Window, Application, Web Based Application, Enterprise और Mobile Application।

और C++ का मुख्य रूप से उपयोग System Programming के लिए किया जाता है।

  1. तीसरा है कि C++ एक Objected Oriented Programming Language है। लेकिन इसे पूरी तरह से Objected Oriented Programming Language नहीं कहा जा सकता है। क्योंकि इसमें प्रोग्राम को बिना Class और Object के भी बनाया जा सकता है।

और Java पूरी तरह से Objected Oriented Programming Language है। क्योंकि इसमें जो प्रोग्राम लिखे जाते हैं वह बिना Class और Object के नहीं बनाया जा सकता है।

  1. आगे चौथा है कि C++ Multiple Inheritance को सपोर्ट करता है। जिसमें एक Code को दूसरे जगह Use किया जा सकता है। इसका मतलब है कि आप एक Class में लिखे गए Code को दूसरी Class में Inherited कर सकते हैं।

इस तरह से आपको इस Functions को दोबारा लिखने की जरूरत नहीं पड़ेगी। जबकि Java Language Class के द्वारा Multiple Inheritance को सपोर्ट नहीं करता। इसकी जगह वह Interface का उपयोग करता है।

  1. पांचवा है कि Java Language Compiler और Interpreter दोनों का ही उपयोग करता है। इसका मतलब है कि Java में प्रोग्राम लिखने के बाद जब उसे Compile और Run किया जाता है, तो Java Compile Time पर Source Code को Byte Code में Convert करता है।

और Interpreter Runtime पर Byte Code को Machine Code में Convert करता है। जो की Machine में Execute करके उसका Output Produced करता है।

C++ Language केबल Compiler का उपयोग करता है जिसमें प्रोग्राम को Compile और Run करने के लिए Compiler का उपयोग होता है। यह Compiler Source Code को Machine Code में Convert करता है।

  1. आ गए हैं नंबर 6 जो की है C++ Programming Language में Memory Allocate और Deallocate करने के जिम्मेदारी Programmer की होती है।

Java में Memory Management, JVM यानी Java Virtual Machine के द्वारा होता है।

मतलब कि इसमें Memory Allocate और Deallocate Automatic होता है।

  1. आगे साथुया है कि C++ Destructor को सपोर्ट करता है। जो की मेमोरी को Destroy करने का काम करता है।

Java Destructor को सपोर्ट नहीं करता क्योंकि इसमें Automatic Garbage Collection मौजूद होता है।

Conclusion

तो दोस्तों Java और C++ में समानता के साथ साथ Differences भी होते हैं। यहां पर कुछ Differences इसको हमने आपके साथ शेयर किया है।

उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आएगी अगर आपको यह आर्टिकल थोड़ा सा भी Helpful लगा तो जरूर नीचे कमेंट करना। और अगर आप इस आर्टिकल में कुछ भी गलतियां ढूंढ लेते हैं तो भी जरूर नीचे कमेंट में बताना।

हम उसको जरूर Update कर देंगे और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा Social Media पर शेयर कीजिए तो चलते हैं आज के लिए बस इतना ही।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

close button